होम Breaking News सरकार ने किसानों को भेजा लिखित प्रस्ताव, क्या MSP-मंडी पर खत्म होगा...

सरकार ने किसानों को भेजा लिखित प्रस्ताव, क्या MSP-मंडी पर खत्म होगा गतिरोध?

46
0

सरकार ने किसानों को भेजा लिखित प्रस्ताव, क्या MSP-मंडी पर खत्म होगा गतिरोध?

कृषि कानून वापस लेने की मांग पर अड़े किसानों को सरकार ने अपना प्रस्ताव भेजा है. जिसमें मौजूदा कानूनों में संशोधन शामिल हैं, इनमें किसानों की मांग को शामिल किया जा रहा है.

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों और सरकार के बीच बातचीत का रास्ता निकला है. सरकार की ओर से कृषि कानूनों में कुछ संशोधन किए जा सकते हैं, जिनपर किसान अड़े हुए थे. सरकार की ओर से किसानों को एक लिखित प्रस्ताव भेज दिया गया है, जिसमें अपनी ओर से कुछ संशोधन जुझाए गए हैं. केंद्र की ओर से इस प्रस्ताव में APMC एक्ट और MSP पर सरकारों को लिखित भरोसा दिया गया है.

किसानों को दिए जाने वाले लिखित प्रस्ताव में सरकार मुख्य रुप से ये पांच मुद्दों को हो सकते हैं. इन मसलों पर सरकार और किसानों के बीच हुई बैठकों में चर्चा हुई है और सरकार की ओर से कुछ ढिलाई के संकेत दिए गए हैं.

1.    APMC एक्ट (मंडी सिस्टम) को मजबूत करना.
2.    ट्रेडर्स के साथ व्यापार को सिस्टमैटिक तरीके से लागू करना.
3.    किसी तरह की दिक्कत होने पर स्थानीय कोर्ट जाने का विकल्प
4.    MSP जारी रहने का प्रस्ताव.
5.    पराली जलाने के खिलाफ सख्त हुए कानून में कुछ संशोधन.

प्रस्ताव पर किसान नेता करेंगे चर्चा
सरकार की ओर से प्रस्ताव मिलने से पहले किसान नेता हनन मोल्ला ने कहा कि अगर सरकार कुछ संशोधन दे रही है तो हमारी स्थिति साफ है, अगर कानून वापस होंगे तभी हम उसे मानेंगे. अगर आज के प्रस्ताव में कुछ पॉजिटिव होता है, तो सरकार के साथ आगे बैठक हो सकती है. उन्होंने कहा कि सरकार ने लिखित में प्रस्ताव देने को कहा है, इसलिए हम उसपर अपने साथियों से बात करेंगे.

आंदोलन के मसले पर विपक्ष भी एक्टिव 
किसानों के आंदोलन के बीच विपक्ष अपनी रणनीति बनाने में जुटा है. सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में बुधवार को एनसीपी नेता शरद पवार और अकाली दल के सुखबीर बादल की बैठक चल रही है. इससे पहले अकाली दल नेता प्रेम चंदूमाजरा शरद पवार से मिलने उनके घर आए थे. चंदूमाजरा ने कहा है कि शरद पवार भी चाहते हैं कि मुद्दे का हाल बातचीत से निकले. अगर सरकार ने किसानों की बात नहीं मानी तो तो आगे उसी के हिसाब से रणनीति बनेगी. बता दें कि आज शाम को विपक्ष को इस मसले पर राष्ट्रपति से मिलना है.

पिछला लेखIND vs AUS: टीम इंडिया ने 12 रनों से गंवाया आखिरी टी20, सीरीज पर 2-1 से कब्जा
अगला लेखराजस्थान में कांग्रेस को झटका, बीजेपी ने दी मात, पांच मंत्रियों के इलाके में हारी कांग्रेस
Pratah Kiran is Delhi & Bihar's Rising Hindi News Paper & Channel. Pratah Kiran News channel covers latest news in Politics, Entertainment, Bollywood, Business and Sports etc.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें